प्रादेशिक बिहार

सासाराम : सम्राट अशोक के शिलालेख को कब्जा कर बनाया मजार, विरोध में भाजपा का महाधरना

सासाराम : चंदन पहाड़ी पर स्थित महान मौर्य सम्राट अशोक के शिलालेख को मजार में बदलने का प्रयास किया गया. बता दें कि देश में अशोक के ऐसे 8 शिलालेख हैं. शिलालेख को मुक्त कराने की मांग को लेकर आज भाजपा ने समाहरणालय परिसर में महाधरना का आयोजन किया. इसका नेतृत्व विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष सम्राट चौधरी ने किया.

भाजपा नेताओं का कहना है कि यदि जल्दी शिलालेख को मुक्त नहीं कराया गया, तो अनिश्चितकालीन धरना-प्रदर्शन होगा.

इस दौरान भाजपा नेता सम्राट चौधरी ने कहा कि 2300 वर्षों से शिलालेख था, लेकिन लालू-नीतीश की सरकार बनते ही शिलालेख पर तालाबंदी कर दी गई. इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

भाजपा नेता जवाहर प्रसाद के अनुसार, इस शिलालेख को अतिक्रमणमुक्त कराने के लिए विधानसभा में भी आवाज उठाई गई, लेकिन इसे अनदेखा किया गया. इसके विरोध में यहां के डीएम ने धरना तक नहीं देने दिया. इस जगह को अब मजार में तब्दील कर दिया गया है. सरकार की लापरवाही के कारण ही आज एक विरासत, मजार बन चुकी है.

सासाराम के समाहरणालय के समक्ष धरनास्थल ओझा टाउन हॉल के प्रांगण में महाधरना को संबोधित करते हुए सम्राट चौधरी ने बिहार सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बिहार सरकार तुष्टीकरण की नीति को अपना रही है। जिसे जल्द से जल्द खत्म करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जिस इस्लाम की उम्र ही सन 786 ई. से शुरू होती है। वह 2300 साल पुराने शिलालेख को चुनौती दे रही है।

इस दौरान जिलाधिकारी को इससे संबंधित ज्ञापन सौंपा गया. इस मौके पर एमएलसी संतोष सिंह समेत कई नेताओं की मौजूदगी रही.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *