आलेख

सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन (जयंती विशेष) : ‘अज्ञेय’ उपनाम नहीं, एक ‘मकसद’

डेस्क कवि रूप में अज्ञेय का निश्छल भोलापन हमें अगर अनायास खींचता है तो उनकी कहानियों और उपन्यासों के पात्र विवश करते हैं कि हर सवाल पर फिर से सोचा जाए. जो उसको जानता है, उसके लिए वो अज्ञात है. जो उसको नहीं जानता उसके लिए वो ज्ञात है’ ( स्रोत – केन उपनिषद) अज्ञेय […]

आलेख

जयंती विशेष : ऐसे थे देश के पहले स्टार्टअपमैन जमशेदजी टाटा…!

डेस्क  टाटा उद्योग समूह के संस्थापक जमशेदजी नौसेरवान जी टाटा की आज जयंती मनायी जा रही है. यह जमशेदजी की दूरदृष्टि ही थी, जिसपर काम कर उन्होंने गुलाम भारत में स्वदेशी का झंडा उठाते हुए औद्योगिक भारत की नींव रखी और इसका केंद्र बना जमशेदपुर. कैसे? आइए जानें- थॉमस कार्लाइल का वह भाषण स्कॉटलैंड के […]

आलेख

चंद्रशेखर आजाद (पुण्यतिथि विशेष) : मां करती रही इंतजार, हो गए देश के लिए शहीद

डेस्क  23 जुलाई 1906 को मध्यप्रदेश भावरा में चंद्रशेखर तिवारी का जन्म हुआ था। उनेक पिता का नाम सीताराम तिवारी और मां जगरानी देवी थी। जिनकी इकलौती औलाद चंद्रशेखर थे। किशोर अवस्था में ही वह बड़े – बड़े सपनों को पूरा करने के लिए अपना घर छोड़कर मुंबई निकल पड़े थे। जहां उन्होंने बंदरगाह में […]

आलेख

जयंती विशेष : क्षत्रपति शिवाजी : मुगलों को घुटने टेकने पर किया मजबूर, जानें ‘हिंदू हृदय सम्राट’ से जुड़े 10 महत्वपूर्ण तथ्य

डेस्क हिंदू हृदय सम्राट व भारत के पराक्रमी मराठा शासक क्षत्रपति शिवाजी महाराज से देश का बच्चा-बच्चा वाकिफ है. पूरे देश में लोग उनके सम्मान में महाराज के नाम से पहले क्षत्रपति शब्द का प्रयोग करते हैं. ऐसे परम पराक्रमी मराठा शासक की आज जयंती है. क्षत्रपति शिवाजी महाराज भारत के एक ऐसे शासक रहे, […]

आलेख

जयंती विशेष : सादगी की प्रतिमूर्ति थे जननायक कर्पूरी ठाकुर

डेस्क बिहार के मुख्‍यमंत्री रहे कर्पूरी ठाकुर को उनकी सादगी भरे जीवन के लिए याद किया जाता है। कर्पूरी ठाकुर ही नहीं, उनके स्वजन भी बहुत सामान्य जीवन जीते थे। कर्पूरी ठाकुर बिहार के पहले गैर-कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे। वो राज्य में दो बार मुख्यमंत्री और एक बार उप मुख्यमंत्री रहे। 1952 में हुए पहली विधानसभा […]

आलेख

जयंती विशेष : ‘कल्याणी केबिन’ के उद्घाटन में मुजफ्फरपुर आए थे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस

डेस्क नेता जी सुभाष चन्द्र बोस का बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से एक खास रिश्ता था। भले ही नेता जी यहां सार्वजनिक रूप से एक बार ही आए हों, लेकिन वह क्रांतिकारियों के दिल में बसते थे। नेता जी की 125वीं जयंती पूरे देश में मनाई जा रही है। इसी के तहत मुजफ्फरपुर में उनसे […]

आलेख

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस : बेहतर मानव अधिकारों के लिए फिर से खड़े हो जाओ…

न्यूज वॉच डेस्क आज अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस (International Human Rights Day 2020) है. 10 दिसंबर को पूरी दुनिया में ये दिन मनाया जा रहा है. हर किसी के लिए इस दिन के मायने बेहद अहम हैं. भारत सहित दूसरे देशों में हर किसी के लिए अपने अधिकारों का महत्व है. संयुक्त राष्ट्र ने मानवाधिकार दिवस […]

आलेख

कवि दिनकर की जयंती पर एक श्रद्धांजलि, उनकी याद में उनके द्वारा रचित कविता

वर्षों तक वन में घूम-घूम, बाधा-विघ्नों को चूम-चूम, सह धूप-घाम, पानी-पत्थर, पांडव आये कुछ और निखर। सौभाग्य न सब दिन सोता है, देखें, आगे क्या होता है। मैत्री की राह बताने को, सबको सुमार्ग पर लाने को, दुर्योधन को समझाने को, भीषण विध्वंस बचाने को, भगवान हस्तिनापुर आये, पांडव का संदेशा लाये। दो न्याय अगर […]

आलेख प्रादेशिक स्वास्थ्य

आलेख : पोषण माह, विशेष पोषण सलाह

पोषण माह और पोषण की खास बात                     डाइटीशियन प्रियंवदा राष्ट्रीय पोषण माह (जिसे पहले राष्ट्रीय पोषण सप्ताह कहा जाता है) भारत में हर साल सितंबर के दौरान पोषण संबंधी आवश्यकताओं, कमियों और कुपोषण के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है। इस महीने […]

आलेख

कविता : मुंशी प्रेमचंद जी की एक सुंदर कविता (दीपा अग्रवाल) जिसके एक-एक शब्द को बार-बार पढ़ने को मन करता है……

 बेगूसराय   से  :-  _ख्वाहिश नहीं मुझे_ _मशहूर होने की,”_         _आप मुझे पहचानते हो_         _बस इतना ही काफी है।_ _अच्छे ने अच्छा और_ _बुरे ने बुरा जाना मुझे,_         _जिसकी जितनी जरूरत थी_         _उसने उतना ही पहचाना मुझे!_ _जिन्दगी का फलसफा […]