आलेख

जयंती विशेष : भारत की पहली महिला शिक्षक सावित्रीबाई फुले

सावित्रीबाई फुले का जीवन परिचय   सावित्रीबाई ज्योतिराव फुले (Savitribai Jyotirao Phule) एक प्रमुख भारतीय सामाजिक सुधारक, शिक्षाविद और कवियत्री थी. जिन्होंने उन्नीसवीं शताब्दी के दौरान महिला शिक्षा और सशक्तिकरण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. उन्हें उस समय की कुछ साक्षर महिलाओं में गिना जाता है. सावित्रीबाई को पुणे में अपने पति ज्योतिराव फुले […]

आलेख

राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस : जानें एक ग्राहक के रूप में क्या हैं आपके अधिकार

देशभर में आज राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस मनाया जा रहा है. बता दें कि भारत में हर साल 24 दिसंबर को राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस मनाया जाता है. साल 1986 में आज ही के दिन उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम को पारित किया गया था. राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस का उद्देश्य, देश के सभी उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा करना […]

आलेख

जयंती विशेष : चौधरी चरण सिंह में बसती थी किसानों की आत्मा

आज चौधरी चरण सिंह जी का जन्मदिन है, जिसे किसान दिवस के रूप में देश भर में याद किया जाता है। किसानों पर जवाहरलाल नेहरू का लिखा एक उद्धरण पढ़िए, ” गांधीजी चाहे लोकतंत्री हों या ना हों, वह भारत की किसान जनता के प्रतिनिधि अवश्य हैं। वह उन करोड़ों की जागी और सोई हुई इच्छाशक्ति […]

आलेख

विजय दिवस विशेष : मात्र 13 दिन में ही भारत ने पाकिस्तान को चटा दी धूल

1971 का भारत-पाक युद्ध लगभग 13 दिनों तक चला था और 16 दिसंबर को समाप्त हुआ था।   16 दिसंबर का दिन, भारतीय सैनिकों के शौर्य की गवाही देता है. ये दिन भारतीय सेना के शौर्य और उस कामयाबी की कहानी बयां करता है जो आज से 50 साल पहले लिखी गई थी. साल 1971 […]

आलेख

पुण्यतिथि विशेष : दलितों के ही नहीं, महिलाओं के भी मसीहा थे डॉ. अंबेडकर

भारतीय संविधान के निर्माता एवं रचयिता बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर की आज 6 दिसंबर 2021 को देश ही नहीं, बल्कि दुनियाभर में 65वीं पुण्यतिथि मनाई जा रही है. सर्वविदित है कि स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजी हुकूमत से खुला विद्रोह छेड़ने से काफी पहले से वह समाज के दबे-कुचलों के हितों के लिए आवाज उठाते […]

आलेख

जेपी जयंती विशेष : जनता के प्रति सत्ता की जवाबदेही सुनिश्चित करना चाहते थे ‘जेपी’

विनय संकोची स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, समाजसेवी, राजनेता और आधुनिक भारत के अग्रणी विचारक जयप्रकाश नारायण के सामाजिक, राजनीतिक विचार आज भी प्रासंगिक हैं। लोकनायक के रूप में प्रसिद्ध जयप्रकाश नारायण यानी जेपी राजनीतिक दार्शनिक से अधिक सामाजिक दार्शनिक थे। 11 अक्टूबर 1902 को जन्मे जेपी ने गांधीवादी सहयोगी तथा गीता के दर्शन के अनुयाई के […]

आलेख

जयंती विशेष (भगत सिंह) : जानिए भगत सिंह के बारे में क्या सोचते थे गांधी

 डेस्क : देश की आजादी के लिए क्रांतिकारी भगत सिंह हंसते-हंसते फांसी के फंदे से झूल गए थे. भगत सिंह आजादी की जंग में अन्य नेताओं से हटकर काम करते थे और उनका आजादी पाने का नजरिया कुछ और था. भगत सिंह के आक्रामक व्यवहार को कई लोग पसंद भी नहीं करते थे. इसी वजह […]

आलेख

93वां जन्मदिन : राजनीति में आना चाहती थीं लता मंगेशकर, वीर सावरकर ने दी संगीत से राष्ट्रसेवा की सलाह

 डेस्क : स्वर कोकिला लता मंगेशकर 28 सितंबर को अपना 93वां जन्मदिन मना रही हैं। भारत रत्न से सम्मानित लता दीदी ने साल 1942 में अपने करियर की शुरुआत की थी। उन्हें पहचान फिल्म महल के गाने ‘आएगा आने वाला’ से मिली थी। लता मंगेशकर ने दुनियाभर की 36 भाषाओं में 50 हजार से ज्यादा […]

आलेख

हिंदी दिवस विशेष : आओ हर दिन मनाएं ‘हिंदी दिवस’ (नागेंद्र बहादुर सिंह चौहान)

सम्मानित मित्रों नमस्कार, हिन्दी दिवस पर आज हिन्दी उत्थान की खूब बातें होंगी। हर शहर में छोटे-बड़े कार्यक्रम होंगे। हर साल यही होता है। कहीं एक सितंबर से पंद्रह सितंबर तक हिन्दी पखवाड़ा मनाया जाता है। कहीं पर सात सितंबर से चौदह सितंबर तक हिन्दी सप्ताह आयोजित होता है। बाकी हिन्दी दिवस तो 14 सितंबर […]

आलेख

विशेष (11 सितंबर, 1893) : शिकागो विश्व धर्म सम्मेलन में स्वामी विवेकानंद, पढ़ें ऐतिहासिक भाषण

 डेस्क : 11 सितंबर 1893 के दिन स्वामी विवेकानंद ने शिकागो के विश्व धर्म सम्मेलन में ऐसा ऐतिहासिक भाषण दिया था कि उसे आज भी याद किया जाता है. स्वामी विवेकानंद की जब भी बात होती है तो अमरीका के शिकागो की धर्म संसद में साल 1893 में दिए गए भाषण की चर्चा ज़रूर होती […]