साहित्य

हास्य-व्यंग्य : चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से (नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान)

ककुवा ने प्रपंच का आगाज करते हुए कहा- बरखा महारानी तौ रौद्र रूप धरि लिहिन। जब बरसै क रहय। तब सूखा परा रहा। सावन, भादौं अबसिला जेठ, बैसाख की तिना तपा हय। यही कारन ते धान कय रोपाई कम भवै। सगरी खेती पछमन होइगै। किसान मरि-जरि कय फसल तैयार किहिस। कुछु धान गालम हय। कुछु […]

साहित्य

कटिहार : शराब तस्कर ने पुलिस कस्टडी में बैठे-बैठे तोड़ा दम, वीडियो वायरल

  कटिहार : यहां मौत का एक लाइव वीडियो (Live Video) सामने आया है. शराब तस्करी के आरोप में गिरफ्तार एक व्यक्ति को पुलिस गिरफ्तार करके थाने लाई थी. आरोपी पुलिस की कस्टडी में बैठा ही था. इसी बीच कुछ ही सेकेंड में उसने दम तोड़ दिया. वायरल वीडियो कटिहार प्राणपुर थाना हाजत की है. […]

साहित्य

हास्य-व्यंग्य : चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से (नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान)

चतुरी चाचा ने प्रपंच का आगाज करते हुए कहा- भारत क धरती प काल्हि 70 साल बादि चीता चहलकदमी किहिन। एकु बड़ा जहाजु जम्बो जेट नामीबिया त चीतन का लैके ग्वालियर पहुंचा रहय। फिरि हुंवा स वायुसेना केरे उड़नखटोला त चीतन का श्योपुर लावा गवा रहय। परधानमंतरी नरेन्द मोदी क 72वें जन्मदिन पय इ चीता […]

साहित्य

हास्य-व्यंग्य : चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से (नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान)

देस म नशेबाजी बढ़तय जाय रही ककुवा ने प्रपंच का श्रीगणेश करते हुए कहा- अपन देस आगे बढ़ि रहा। हर तरफ तरक्की होय रही। भारत का आजाद भये 75 साल होइगे। देस म अमृत महोत्सव मनावा जाय रहा। सब बड़ा नीक लागि रहा। मुदा, एकु काम बड़ा खराब होय रहा। देस म नशेबाजी बढ़तय जाय […]

साहित्य

हास्य-व्यंग्य : चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से (नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान)

सरकारी स्कूलन म पढ़ाई छोड़िक सब होत हय! चतुरी चाचा ने प्रपंच का आगाज करते हुए कहा- देस का आजाद भये 75 साल होइगे। भारत अपनी आजादी क्यारु अमृत महोत्सव मनाय रहा। मुला, अबहिंयु आम बच्चन क नीकि शिक्षा नाय मिलि पाय रही। सरकारी प्राइमरी स्कूलन म पढ़ाई छोड़िक सब होत हय। मास्टर अउ मस्टराइन […]

साहित्य

हास्य-व्यंग्य : चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से (नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान)

ककुवा ने प्रपंच का अगाज करते हुए कहा- सांचु कही तौ आजु परपंचु करय क हमार तनुकव मन नाइ हय। बसि, जीव यहै कहत हय कि उठाई साइकिल अउ सगरी जवार घूमी। घर-घर अउ गांव-गांव तिरंगा लहरात देखि। लोगन केरी आँखिन म राष्ट्रभक्ति हिलोर लेत देखि। हम काल्हि शुक का बड़ी बाजार भुट्टा बेचय गयेन […]

साहित्य

हास्य-व्यंग्य : चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से (नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान)

या ईडी कौनि बला आय चतुरी चाचा ने प्रपंच का आगाज करते हुए कहा- आजु काल्हि दुनव मोतिन केरी आत्मा छटपटात होई। मोतीलाल नेहरू अउ मोतीलाल बोरा दुनव सरग म परेशान होइहैं। काहे ते दिल्ली म बड़ा बवाल चलि रहा। याक लँग कॉंग्रेस महंगाई अउ बेरोजगारी पय हल्ला मचाय रही। दूसरी लँग कांग्रेस क ईडी […]

साहित्य

जयंती विशेष : आम आदमी के साहित्यकार मुंशी प्रेमचंद (योगेश कुमार गोयल)

उपन्यास सम्राट और आधुनिक हिन्दी साहित्य के पितामह महान कथाकार मुंशी प्रेमचंद को आम आदमी का साहित्यकार भी कहा जाता है। चूंकि उनकी लगभग सभी कहानियां आम जीवन और उसके सरोकारों से ही जुड़ी होती थी, इसीलिए उनके सबसे ज्यादा पाठक आम लोग रहे हैं। दरअसल उन्होंने अपने सम्पूर्ण साहित्य लेखन में एक आम गरीब […]

साहित्य

हास्य-व्यंग्य : चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से (नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान)

सौ म सौ नम्बर पायब हायतौबा काहे! चतुरी चाचा ने प्रपंच का आगाज करते हुए कहा- आजु काल्हि सीबीएसई बोर्ड केरी बहुत चर्चा होय रही। देस क तमाम लरिका-बिटिया सौ मा सौ नम्बर पाइन हयँ। हजारन विद्यार्थी 100 म 99 अउ 98 नम्बर पाइन हयँ। यहिका लैके बड़ी हायतौबा मची हय। परीक्षा केर पेपर बनावै […]

साहित्य

हास्य-व्यंग्य : चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से (नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान)

चतुरी चाचा ने प्रपंच का श्रीगणेश करते हुए कहा- आजु काल्हि बिटिया क बिहाव करवब सब ते कठिन हय। बिटिया वाले क दहेज मंडी म दामाद खरीदय क परत हय। दिखावा केरे चक्कर म शादी-ब्याह बड़ा महंगा होत जाय रहा। पहिले नगद नारायन अउ गाड़ी-गड्डा तय करत हयँ। फिरि वर पक्ष वाले महंगे कपड़ा अउ […]