Uncategorized

पटना: ASI की बेटी ने फ्लाईओवर से कूदकर दी जान

विजिलेंस में तैनात असिस्टेंट सब इंस्पे6क्टर संजय कुमार मिश्रा की बेटी श्वेतांगी ने आर ब्लॉक फ्लाईओवर से कूदकर आत्महत्या कर ली। घटना गुरुवार दोपहर करीब साढ़े बारह बजे हुई। खगौल महिला कॉलेज के बीए पार्ट वन (कॉमर्स) में पढ़ने वाली श्वेतांगी मूल रूप से सीवान जिले के महाराजगंज की रहने वाली थी। पटना में वह गर्दनीबाग के यारपुर राजपुताना स्थित शिवाजी पथ पर रत्नेश्वर तिवारी के मकान में बतौर किरायेदार परिवार के साथ रहती थी।

पुलिस के मुताबिक, बीते एक दिसंबर की रात छात्रा के पटना स्थित आवास में चोरी हो गयी थी। उस वक्त वह पास में ही स्थित अपनी बुआ के घर गयी थी। दो दिसंबर की सुबह वापस आने पर उसे चोरी का पता चला। उसे लग रहा था कि उसके घर में नहीं रहने के कारण चोरी हुई है। इसी वजह से दुखी होकर छात्रा ने फ्लाईओवर से कूदकर अपनी जान दे दी।

पुलिस ने शव को किया जब्त
मौके पर पहुंची सचिवालय थाने की पुलिस ने छात्रा के शव को पोस्टमार्टम के लिये पीमसीएच भेजा। छात्रा की चप्पल काफी देर तक घटनास्थल पर ही पड़ी थी। उसके पिता के बयान पर सचिवालय थाने में यूडी केस दर्ज किया गया है।

छात्रा को फ्लाईओवर से छलांग लगाने की कोशिश करते देख वहां से गुजर रहे कुछ लोगों ने उसे बचाने की कोशिश की। लेकिन जब तक राहगीर उसे रोकते, वह छलांग लगा चुकी थी।

बुआ के यहां जाने की बात कहकर निकली थी
छात्रा घर से अपनी बुआ के यहां जाने की बात कहकर बाहर निकली थी। जब काफी देर तक वह नहीं लौटी तो उसका छोटा भाई बुआ के घर गया। पता चला कि श्वेतांगी वहां नहीं गयी है। इसके बाद परेशान परिजन उसे तलाशने लगे। छात्रा के मोबाइल के जरिये पुलिस ने उसके परिजनों से संपर्क किया।

घर का सारा सामान ले गये थे चोर
एक दिसंबर को छात्रा के परिवार वाले छपरा स्थित एक शादी समारोह में गये थे। छात्रा घर पर अकेली थी। रात के वक्त वह खाना खाने अपनी बुआ के घर चली गयी। इसी बीच चोरों ने घर से जेवरात, कपड़े, नकद रुपये सहित चार लाख से ज्यादा के सामान की चोरी कर ली। अगले दिन छात्रा जब घर पहुंची तो दरवाजे का ताला टूटा देखा। इसके बाद उसने अपने परिजनों को इस बात की सूचना दी। चोरी की घटना की एफआईआर गर्दनीबाग थाने में दर्ज करायी गयी थी। छात्रा को लग रहा था कि अगर वह बुआ के घर नहीं जाती तो उसके घर चोरी नहीं होती। इस बात को लेकर वह परेशान थी और डिप्रेशन में चली गयी थी। घरवालों ने भी छात्रा को काफी समझाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *