अजब-गजब

नालंदा : सोनू सूद से मदद मांगना पड़ा भारी, साइबर अपराधियों ने खाली कर डाला अकाउंट

नालंदा : एक टीचर जो जिन्दगी और मौत के बीच जूझ रहा है उसे साइबर ठगों ने अपना शिकार बनाया है। दरअसल, फिल्म अभिनेता सोनू सूद की चर्चा नालंदा के द्वारका नगर में रहने वाले शिक्षक शुभम कुमार ने सुनी थी। उन्हें पता चला था कि सोनू सूद जरूरतमंदों की मदद करते हैं। तब से उन्हें भी पूरा विश्वास हो गया कि सोनू सूद उनकी भी मदद जरूर करेंगे। शिक्षक ने सोनू सूद को ट्वीट कर अपनी स्थिति से अवगत कराया और मदद की गुहार भी लगाई। वह सोनू सूद से मदद की आस में बैठे ही थे कि एक कॉल आया और बैंक अकाउंट में रखे सारे पैसे गायब हो गये। शुभम को यह मालूम नहीं था कि वे साइबर ठगी के शिकार हो जाएंगे।

सोनू सूद को ट्वीट करने के बाद तुरंत उनके मोबाइल पर एक कॉल आया। फोन करने वाले व्यक्ति ने खुद को सोनू सूद का मैनेजर बताते हुए एक लिंक भेजा और कहा कि इस पर रजिस्ट्रेशन कर दीजिए। लिंक भेजने के बाद एक रुपया कटवाया और पूरे बैंक अकाउंट को ही साफ कर दिया।

टीचर शुभम के बारे में बताया जाता है कि वे कोरोना काल से ही बीमार हैं। कोरोना संक्रमित होने के बाद फेफड़ा पूरी तरह से संक्रमित हो गया है। चेन्नई स्थित एमजीएम हेल्थकेयर ने ट्रांसप्लांट के लिए 45 लाख रुपए की मांग की, तब से वे ऑक्सीजन सपोर्ट पर बिहारशरीफ में किराए के मकान में जिन्दगी और मौत के बीच जूझ रह रहे हैं।

इलाज के लिए वह देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री तक से गुहार लगा चुके, लेकिन उनकी सुध नहीं ली गयी। थककर शुभम ने बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद को ट्वीट किया और उन्होंने मदद की गुहार लगायी, लेकिन वे ठगी का शिकार हो गये। साइबर ठगों ने उनके बैंक अकाउंट में रखे सारे पैसे निकाल लिए। बता दें कि अपने बेटे की इलाज के लिए शुभम के पिता खेत तक बेच चुके हैं। बड़े बेटे के इलाज के लिए अब 45 लाख रुपये की जरूरत है, जिसे जुटा पाना अब बुजुर्ग पिता के बस की बात नहीं है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.