राष्ट्रीय

107 दिनों बाद इंदौर के चूड़ी बेचने वाले तस्लीम को मिली जमानत, कहा- नाम सुनते ही मुझे पीटना शुरू कर दिया था

 डेस्क : मध्य प्रदेश के इंदौर (Madhya Pradesh Indore) में अपनी पहचान छुपाने कर चूड़ियां बेचने वाले तस्लीम अली (Tasleem Ali indore bangle seller) को मंगलवार को हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है. तस्लीम अली को पहचान छुपाने के आरोप में लोगों के द्वारा पीटा गया था. जिसके बाद ही पुलिस ने तस्लीम को गिरफ्तार किया था. 24 अगस्त को इंदौर के गोविंद नगर में चूड़ियां बेचने के लिए एक नाबालिग से छेड़छाड़ करने के आरोप में गिरफ्तार हुए तस्लीम अली ने 107 दिन जेल में बिताए हैं. मंगलवार को जमानत मिलने के बाद तस्लीम अली के वकील एहतेशाम हाशमी ने इसे ‘संविधान की जीत’ कहा है.

उन्होंने कहा, ‘जस्टिस सुजॉय पॉल ने अपने आदेश पत्र में देखा है कि तस्लीम को गुंडों ने पीटा था और फिर उसकी शिकायत के बाद एक क्रॉस प्राथमिकी दर्ज की गई थी. अभियोजन पक्ष ने यह कहते हुए जमानत प्रक्रिया में देरी करने का जानबूझकर प्रयास किया था कि जमानत मिलने के बाद सबूतों के साथ छेड़छाड़ हो सकती है या वह यूपी से ताल्लुक रखने के कारण भाग सकता है.’

मंत्रियों और पुलिसकर्मियों ने जमानत होने में करवाई देरी

तस्लीम अली के वकील हाशमी का कहना है कि राज्य के वरिष्ठ मंत्रियों और पुलिसकर्मियों ने उनकी रिहाई में देरी करने की पूरी कोशिश की है. उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट के न्यायाधीश ने अली को यह कहते हुए जमानत दे दी है कि सभी सबूत इकठ्ठा कर लिए गए हैं और आरोप पत्र दायर किया गया है.

तस्लीम ने कहा मेरा नाम सुनते ही मुझे पीटने लगे थे लोग

रिपोर्ट में बताया गया है कि उस दिन क्या हुआ था इस बारे में खुद तस्लीम ने कहा जैसे ही मैंने खरीदारों को बुलाया, एक आदमी ने मुझे पकड़ लिया और मेरा नाम पूछा. सबसे पहले मैंने उसे अपने वोटर आईडी कार्ड पर नाम ‘भूरा’ बताया. जब उन्होंने पूछा कि क्या मैं मुस्लिम हूं तो मैंने हां कहा, जिसके बाद उन्होंने फिर से मेरा नाम पूछा. मैं हिचकिचाया और फिर कहा तस्लीम.

ये सुनते के साथ ही उसने पीटना शुरू कर दिया कि उनके क्षेत्र में वह कैसे आ सकता है? फिर पीटने वाले शख्स ने कुछ और लोगों को मौके पर बुला लिया. इसके बाद चारों लोगों ने खूब पिटाई की. उन्होंने कहा कि मैं मुस्लिम होने के बावजूद इलाके में कैसे आया और मैं उनकी मां और बहनों के साथ दुर्व्यवहार कर रहा था.

नाबालिग ने लगाया था छेड़छाड़ का आरोप

उधर, अली के खिलाफ अपनी शिकायत में लड़की ने आरोप लगाया था कि वह दोपहर 2 बजे के आसपास उनके घर आया था, जब उसके पिता घर पर नहीं थे. आधा जला आधार कार्ड दिखाते हुए खुद को गोलू बताया. नाबालिग के मुताबिक, ‘हमने उससे चूड़ियां खरीद रहे थे. जैसे ही मेरी मां पैसे लेने गई, तो चूड़ी-विक्रेता ने मेरी ओर अभद्र दृष्टि से देखा और मेरा हाथ पकड़कर कहा, ‘मैं तुम्हें चूड़ियां पहनने में मदद करूंगा. उसने मेरे गालों को भी गलत तरीके से छुआ.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *