अजब-गजब

लखनऊ : मेट्रो स्टेशनों में लंगूरों के कटआउट, जानें क्या है मामला

डेस्क  : उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ के मेट्रो (Lucknow Metro) के आधा दर्जन से अधिक स्टेशनों पर बंदरों के आतंक के कारण यात्री परेशान हो रहा हैं और अब मेट्रो प्रशासन ने इस समस्या से निपटने के लिए मेट्रो के स्टेशनों पर लंगूरों के कटआउट लगाए हैं. ताकि बंदर मेट्रो स्टेशनों के अंदर न आ सके और यात्रियों को इससे कोई दिक्कत ना हो.

जानकारी के मुताबिक लखनऊ मेट्रो के चारबाग, केडी सिंह, आईटी, बादशाहनगर, लेखराज, इंदिरानगर, मुंशी पुलिया समेत आठ स्टेशनों पर बंदरों का आतंक है और यहां पर ज्यादा बंदर हैं और इसके कारण यात्रियों को बहुत परेशानी का सामना करना पड़ता है. यही नहीं मेट्रो स्टेशनकी सीढ़ियों पर बंदरों का कब्जा है, जिसके कारण यात्री स्टेशन में आने से डरते हैं और यातायात के लि अन्य विकल्पों का इस्तेमाल करते हैं.

चारबाग में स्थिति बदतर

मेट्रो प्रशासन का कहना है कि बंदरों का सबसे ज्यादा आतंकी चारबाग, दुर्गापुरी मेट्रो स्टेशन में में है. क्योंकि यहां से चारबाग पास है और बड़ा रेलवे स्टेशन होने के कारण लोग रेलवे ट्रैक पर खान और फल फेंक देते हैं. जिसके कारण बंदर यहां पर ज्यादा है. इसी के कारण दुर्गापुरी रेलवे स्टेशन पर भी बंदलो का आतंक ज्यादा देखा जाता है. हालांकि दुर्गापुरी मेट्रो स्टेशन यात्रियों का फुटफॉल ज्यादा नहीं है. लेकिन चारबाग रेलवे स्टेशन पर यात्रियों का फुटफॉल ज्यादा है.

बंदर छिन लेते हैं सामान

दरअसल बंदर प्लेटफार्म और प्लेटफार्म की ओर जाने वाली सीढ़ियों पर कब्जा कर लेते हैं और कई बार यात्रियों का सामान लेकर भाग जाते हैं. यहीं कई बार बंदर यात्रियों पर हमला कर देते हैं.

लंगूरों के कटआउट लगाए

वहीं अब बंदरों से निजात दिलाने के लिए लखनऊ मेट्रो प्रशासन ने मेट्रो स्टेशनों पर लंगूरों के कटआउट लगाए गए हैं. ताकि लंगूरों के डर के कारण बंदर स्टेशन या प्लेटफार्म में प्रवेश न करें और यात्रियों को स्टेशन आने में दिक्कत न हो. जानकारी के मुताबिक इन कटआउट का असर दिखने लगा है और लंगूरों के कट जाने के बाद स्टेशनों पर आने वाले बंदरों की संख्या कम हुई है.

रोजाना 30 हजार यात्री करते हैं लखनऊ मेट्रो में यात्रा

जानकारी के मुताबिक वर्तमान में मेट्रो में सफर करने वाले यात्रियों की संख्या लगातार इजाफा हो रहा है और कोविड की दूसरी लहर के बाद अब लखनऊ में लोग मेट्रो की सवारी करना पसंद कर रहे हैं. वहीं हर दिन 30 हजार से ज्यादा लोग मेट्रो में सफर कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *