स्थानीय

दरभंगा : डरहार गांव में स्वयंसेवकों द्वारा हुआ कोविड-19 टीकाकरण जागरूकता सर्वे

डॉ. शम्शे आलम : देशसेवा सबसे बड़ी सेवा है और इससे बड़ी न कोई सेवा है, न कोई धर्म

डॉ. प्रियंका राय : राष्ट्रीय सेवा योजना का प्रत्येक स्वयंसेवक ‘कोरोना कर्मवीर’

दरभंगा : राष्ट्रीय सेवा योजना की महारानी कल्याणी महाविद्यालय, लहेरियासराय इकाई द्वारा सात दिवसीय विशेष कार्यक्रम के अंतर्गत शिविर के चौथे दिन स्वयंसेवकों द्वारा डरहार गांव में कोविड-19 टीकाकरण जागरूकता सर्वे किया गया। इस सर्वे में स्वयंसेवकों ने यह जानने का प्रयास किया कि डरहार गांव में कोविड-19 के टीकाकरण को लेकर ग्रामवासियों में कितनी सोच -समझ विकसित हो पायी है।

स्वयंसेवकों ने गांव के घर-घर में जाकर कोविड-19 टीकाकरण से संबंधित विभिन्न पहलुओं पर ग्रामवासियों से कुछ प्रश्न पूछ कर उनके उत्तर जानने के प्रयास किए तथा वैश्विक महामारी के बारे में और उससे संबंधित टीकाकरण की महत्ता के बारे में ग्रामवासियों को अवगत कराने का भी सफल प्रयास किया गया ।

इस शिविर के दौरान डॉ. शम्शे आलम, भौतिकी विभागाध्यक्ष ने स्वयंसेवकों के कार्य की सराहना करते हुए कहा कि देश सेवा सबसे बड़ी सेवा है और इससे बड़ी न कोई सेवा है, न कोई धर्म है। सही मायने में देशसेवा की शुरुआत गांव से ही होती है जो कि हमारे स्वयंसेवक ईमानदारी पूर्वक कर रहे हैं। इस बात पर उन्हें गर्व है कि उनके महाविद्यालय के स्वयंसेवक पूरी निष्ठा और समर्पण भाव से अपने- अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं। उन्हें पूरा विश्वास है कि उनके द्वारा किए जानेवाले विभिन्न कार्यक्रम निश्चित रूप से डरहार के ग्रामवासियों के लिए लाभदायक और ज्ञानवर्धक होंगे।

राष्ट्रीय सेवा योजना की पदाधिकारी डॉ. प्रियंका राय ने कहा कि इस शिविर का विषय कोविड-19 और युवा है और गांव के बेहतर भविष्य के लिए इस विषय का चयन किया गया है । आज इस शिविर के चौथे दिन स्वयंसेवकों द्वारा किये जाने वाले सर्वे का परिणाम जिला पदाधिकारी, दरभंगा को सौंपा जाएगा। राष्ट्रीय सेवा योजना का गांव में तीन दिन से शिविर लगाया जा रहा है और निरंतर स्वयंसेवकों द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों को कोविड-19 जैसी महामारी की स्थिति में सतर्कता बरतने, कोविड-19 टीका लगवाने तथा उससे जुड़ी अफवाहों को दूर करने का सफल प्रयास किया गया है। इसका परिणाम रहा कि सर्वे द्वारा ज्ञात हुआ है कि डरहार ग्रामवासियों में काफी हद तक कोविड-19 से सतर्कता और उससे संबंधित जानकारियों का एक अच्छा ज्ञान संपुट है। वास्तव में राष्ट्रीय सेवा योजना का प्रत्येक स्वयंसेवक ‘कोरोना कर्मवीर’ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *