प्रादेशिक बिहार

बिहार राज्य आर्य प्रतिनिधि सभा ने किया 95वें वार्षिक अधिवेशन का आयोजन

सिक्किम के राज्यपाल गंगा प्रसाद : वेद मानव मात्र का संविधान

पटना (उत्कर्ष) : बिहार राज्य आर्य प्रतिनिधि सभा मुनीशवरानंद भवन, नयाटोला पटना के तत्वावधान में 95वें वार्षिक अधिवेशन-सह-साधारण (आम) सभा का भव्य आयोजन आहुत किया गया। इस वार्षिक अधिवेशन में मुख्य अतिथि के रूप में गंगा प्रसाद राज्यपाल, सिक्किम के द्वारा गोष्ठी का शुभारंभ किया गया । इस अधिवेशन का मूल विषय ‘देश की वर्तमान स्थिति में आर्य समाज की भूमिका’’ था।

अपने संबोधन के दौरान राज्यपाल गंगा प्रसाद ने कहा कि वेद मानव मात्र का संविधान है और वेद के आधार पर ही सामाजिक कुरीतियों का खंडन किया गया है। आर्य समाज के प्रणेता महर्षि दयानन्द सरस्वती ने समाज के हर क्षेत्र में अपनी सार्थक भूमिका निभाते हुए अंधविश्वास, नारी षिक्षा, विधवा उत्थान एवं वेद के प्रचार-प्रसार से समाज को नई दिशा देने का महती प्रयास किया है। उन्होंने बताया कि ‘सत्यार्थ प्रकाश” पुस्तक में सत्य का ही समावेश है। यह पुस्तक मानव को अनुशासन में रहकर अपने जीवन को सार्थक बनाने के लिए मार्ग प्रशस्त करता है।

इस मौके पर बिहार राज्य आर्य प्रतिनिधि सभा के प्रधान डाॅ. संजीव चौरसिया (विधायक, दीघा) ने कहा कि महर्षि दयानन्द सरस्वती के कृतित्व एवं व्यक्तित्व से वर्तमान पीढ़ी को सीख लेने की जरूरत है। उनके सिद्धांतों को व्यवहारिक जीवन में अपनाकर व्यक्ति अपने मूल उद्देश्यों को प्राप्त कर सकता है।

इस अवसर पर विनय आर्य महामंत्री दिल्ली आर्य प्रतिनिधि सभा एवं उपमंत्री सार्वदेशिक आर्य प्रतिनिधि सभा नई दिल्ली ने आर्य समाज के संस्थापक महर्षि दयानन्द सरस्वती के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज के युवा वर्ग को महर्षि दयानन्द के बतायें गये सिद्धांतों पर चलने की आवश्यकता है। सम्पूर्ण विश्व में यदि मानवतावाद और विश्वबंधुत्व की भावना पर आधारित कोई संस्था है, तो वह आर्य समाज है। वर्तमान काल में स्वामी दयानन्द और उनके सिद्धांतो पर आधारित आर्य समाज की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण है।

इस अधिवेशन का शुभारम्भ वैदिक मंगलाचरण एवं राष्ट्रगान के साथ गंगा प्रसाद के कर कमलों द्वारा दीप प्रज्वलन कर किया गया। इस दौरान मुख्य अतिथियों को पुष्प गुच्छ देकर सम्मानित किया गया। सभी मुख्य अतिथि ने अपने उद्बोधन में अपने विचार रखें। इस अवसर पर बिहार राज्य आर्य प्रतिनिधि सभा, पटना के मंत्री डाॅ. व्यासनन्दन शास्त्री, कोषाध्यक्ष सत्यदेव प्रसाद गुप्त, महामंत्री मनोज कुमार आर्य सभी पदाधिकारी एवं सदस्यों के साथ ही बिहार के कोने-कोने से सैकड़ों की संख्या में आए आर्य प्रतिनिधिगण मौजूद रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *