प्रादेशिक बिहार

जदयू का दामन थामेंगी मो. शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब ! कयासों को मिल रही मजबूती

डेस्क : राजद के कद्दावर नेता पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन के निधन के बाद सीवान की सियासत में एक ऐसी शून्यता देखने को मिल रही है, जिसे भरने के लिए तमाम राजनीतिक पार्टियां कवायद करने लगी हैं। दिल्ली के हॉस्पीटल में शहाबुद्दीन की मौत के बाद उनकी कोरोना रिपोर्ट के नेगेटिव आने व अंतिम संस्कार में तमाम तकलीफों को देखने के बाद शहाबुद्दीन के समर्थकों में नाराजगी देखने को मिल रही है। जानकारों की मानें तो पूरे घटनाक्रम से सीवान की सियासत में आने वाले दिनों में बड़ा उलटफेर देखने को मिल सकता है।

जानकारी के मुताबिक, शहाबुद्दीन के निधन के बाद सीएम नीतीश कुमार ने पूर्व सांसद के परिवार से बात की है। चर्चा इस बात की भी है कि दिल्ली से दिवंगत पूर्व सांसद के परिवार के सीवान लौटने के बाद हिना शहाब अपने समर्थकों के साथ जदयू में शामिल हो सकती हैं। इस बात के भी कयास लग रहे हैं कि सीएम के इस पहल के बाद पूर्व सांसद के परिवार ने भी नरम रुख दिखाया है और इस बात को देखते हुए ही हिना शहाब के जदयू में शामिल होने की बात को मजबूती मिल रही है।

दरअसल, प्रदेश के अल्पसंख्यक समुदाय में अपनी गहरी पकड़ रखने वाले शहाबुद्दीन के निधन के बाद कोरोना रिपोर्ट, पोस्टमार्टम व अंतिम संस्कार में हुई परेशानियों पर जिस तरीके से अल्पसंख्यक समुदाय के वोटरों के साथ शहाबुद्दीन के समर्थकों ने रुझान दिखाया है, उसके आधार पर भी यह कहा जा सकता है कि सीवान आने वाले दिनों में सियासत के नये रंग में दिख सकता है। गौरतलब है कि प्रदेश की विभिन्न पार्टियों की तरफ से शहाबुद्दीन के समर्थन में उठने वाले बयान के बाद उनके समर्थकों ने मुखर तरीके से अपनी बातों को रखना शुरू किया और अपनी नाराजगी को जताते हुए इस्तीफा भी देने लगे। हालांकि, दिवंगत पूर्व सांसद के बेटे ओसामा शहाब ने इस बात पर जरूर जोर दिया है कि इन सारी बातों के बाद भी उनका या उनके परिवार का राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद, तेजस्वी यादव या फिर राजद से कोई गिला-शिकवा नहीं है। बहरहाल, सीवान की सियासत में आने वाले दिनों में उलटफेर देखने को मिल सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *