अंतरराष्ट्रीय

बिल और मेलिंडा गेट्स का तलाक, चलता रहेगा गेट्स फाउंडेशन

डेस्क : दुनिया के सबसे अमीर हस्तियों में शामिल और माइक्रोसॉफ्ट के को फाउंडर बिल गेट्स और उनकी पत्नी मेलिंडा गेट्स ने शादी के 27 साल बाद तलाक लेने का फैसला किया. बिल गेट्स की संपत्ति करीब 130 बिलियन डॉलर ( करीब 96,20,000 करोड़ रुपए ) बताई गई है. दरअसल टेक जगत की इस दंपत्ति का नाम पैसा कमाने के साथ साथ सबसे ज्यादा दान देने के लिए भी जाना जाता रहा है. बिल और मेलिंडा गेट्स ने ज्वाइंट ट्वीट के जरिए ये जानकारी पब्लिक को दी.

बिल और मेलिंडा गेट्स ने 27 साल पहले यानी 1994 में शादी की थी. बिल गेट्स और उनकी पत्नी दान करने में दुनिया के अव्वल दंपत्तियों में गिने जाते है. एक रिपोर्ट के मुताबिक बिल और मेलिंडा गेट्स 1994 से अबतक करीब 2.25 लाख करोड़ से ज्यादा की प्रॉपर्टी दान कर चुके हैं.

शादी के बाद शुरू किया था गेट्स फाउंडेशन

बिल गेट्स ने साल 2000 में माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ का पद छोड़ा था. उसके बाद इस दंपत्ति ने लोगों का भला करने के लिए बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन का निर्माण किया. इस संस्था का मकसद दुनिया भर में चैरिटी के जरिए लोगों की मदद करना था. दरअसल बिल और मेलिंडा गेट्स का मानना है कि दुनिया से गरीबी मिटाने में चैरिटी की अहम भूमिका है. इन दोनों का मकसद दुनिया में गरीब लोगों को बेहतर हेल्थ फैसिलिटी मुहैया कराना है.

सबसे ज्यादा दान करने के बाद भी अमीर

बिल गेट्स औऱ मेलिंडा गेट्स के बारे में कहा जाता है कि इन्होने अपनी संपत्ति का बड़ा हिस्सा दान कर दिया है. इसके बावजूद ये कपल दुनिया के टॉप अमीरों में शुमार है. बिल गेट्स ने अपनी तलाक की खबर ट्वीट के जरिए दी. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि बीते 27 सालों में हमने तीन बच्चों की परवरिश की और एक बेहतरीन संस्था बनाई जो दुनियाभर के लोगों को स्वास्थ्य और बेहतर जीवन जीने में सहायता करती है.

चलता रहेगा फाउंडेशन का काम

बिल गेट्स ने अपने ट्विट में कहा कि चैरिटी के इस मिशन में हम अपना विश्वास कायम रखेंगे और आगे भी साथ इस फाउंडेशन के लिए काम करते रहेंगे लेकिन हमें लगता है कि एक जोड़े के तौर पर हम अपने जीवन के अगले चरण में एक साथ आगे नहीं बढ़ सकते. बिल और मेलिंडा ने गेट्स फाउंडेशन को साल 2000 में लॉन्च किया था और ये दोनों ही इस संस्था के ट्रस्टी हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *