अंतरराष्ट्रीय

कोरोना से जंग में भारत को मिला इजरायल का साथ, ऑक्सीजन जनरेटर्स और रेस्पिरेटर्स की इस पूरे सप्ताह करेगा डिलीवरी

डेस्क : इजरायल (Israel) कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ने के लिए इस पूरे सप्ताह जीवन-रक्षक उपकरणों को भारत (India) भेजगा. यरुशलम (Jerusalem) में जारी हुए एक बयान में इसकी जानकारी दी गई है. भारत भेजे जाने वाले इन मेडिकल उपकरणों में ऑक्सीजन जनरेटर्स और रेस्पिरेटर्स शामिल होंगे. इस प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया कि इन उपकरणों को मंगलवार से इस पूरे सप्ताह विमानों के जरिए भारत भेजा जाएगा.

विदेश मंत्री गाबी अश्केनजी ने एक बयान में कहा, इजरायल भारत का एक करीबी और महत्वपूर्ण दोस्त है. हम भारत के साथ खड़े हैं, खासतौर पर जब वह एक कठिन समय का सामना कर रहा है. हम अपने भारतीय भाइयों और बहनों के लिए जीवन-रक्षक उपकरणों को भेज रहे हैं. विदेश मंत्री ने आगे कहा, इजरायल और भारत रणनीतिक संबंध साझा करते हैं जो राजनीतिक, सुरक्षा और आर्थिक मुद्दों की एक विस्तृत श्रृंखला का विस्तार करते हैं. भारत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और विशेष रूप से एशिया-प्रशांत में इजरायल के लिए सबसे महत्वपूर्ण देशों में से एक है.

विदेश मंत्रालय के कई आर्थिक निकाय करेंगे भारत की मदद

गाबी अश्केनजी ने कहा कि आपातकालीन सहायता दोनों देशों के बीच गहरी मित्रता को दिखाता है. उन्होंने व्यापक पैकेज की व्यवस्था में सहयोग करने वाले सभी लोगों को धन्यवाद दिया. इजरायल के विदेश मंत्रालय ने अपने कई आर्थिक निकायों से मदद मांगी है. इसमें इजरायल-भारत चैंबर ऑफ कॉमर्स, इजरायल-एशिया चैंबर ऑफ कॉमर्स, मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ इजराइल, फेडरेशन ऑफ इजरायल चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स और शामिल हैं. दूसरी ओर, सॉफ्टवेयर कंपनी एमडॉक्स ने भी 150 ऑक्सीजन जनरेटर्स को भी इस राहत पैकेज में दान करने का ऐलान किया है.

संकट में भारत ने भी की इजरायल की मदद

बताया गया है कि जेडीसी (अमेरिकी यहूदी संयुक्त वितरण समिति) भी इजरायल के सहायता प्रयासों में शामिल हो गई है और ऑक्सीजन जनरेटर और अन्य उपकरण दान करेगी. बयान में कहा गया है कि हमें याद है कि पिछले साल कोरोनोवायरस संकट की शुरुआत में भारत ने इजरायल की सहायता की. भारत ने इजरायल को मास्क, ग्लव्स और कच्चे माल की एयर डिलीवरी को मंजूरी दी और इजरायल के नागरिकों की वतन वापसी की व्यवस्था में भी मदद की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *