राष्ट्रीय

मद्रास हाईकोर्ट की फटकार पर सुप्रीम कोर्ट पहुंचा चुनाव आयोग, कहा- अदालत की टिप्पणी से धूमिल हुई छवि

नई दिल्ली : मद्रास हाईकोर्ट की फटकार के बाद अब चुनाव आयोग ने देश की शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है। चुनाव आयोग ने मद्रास हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई चल रही है। चुनाव आयोग ने बताया कि हाईकोर्ट को बिना किसी कारण या आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत जिम्मेदार अधिकारियों से जवाब मांगने के लिए बीच में  उतारा गया है, जबिक आयोग ने कोरोना बेहेवियर पालन करने के लिए सभी राजनीतिक दलों को निर्देशित किया था। साथ ही लोगों से भी मॉस्क और सोशल डिस्टेंसिंग पालन करने की अपील की थी।

दरअसल, कोरोना काल में पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव हुए हैं। इसमें बंगाल चुनाव प्रचार के दौरान कोरोना संक्रमण के मामलों में भारी इजाफा देखा गया। इसपर मद्रास हाईकोर्ट में चुनाव आयोग के खिलाफ याचिका लगाई गई। मद्रास हाईकोर्ट ने इसको लेकर चुनाव आयोग की फटकार लगाते हुए कहा कि चुनाव आयोग कोविड प्रोटोकॉल बनाए रखने में पूरी तरह से विफल रहा।  बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर आयोग के ने सभाएं और रैलियां करने की इजाजत दी, ऐसे में क्यों ना गैर जिम्मेदार संस्था पर कार्रवाई की जाए।

सुप्रीम कोर्ट में चुनाव आयोग ने अपनी दलील में बताया कि जब रैलियां हो रही थीं, तो स्थिति इतनी खराब नहीं थी, लेकिन हाईकोर्ट ने जिस तरह से संवैधानिक संस्था पर टिप्पणियां की है उससे चुनाव आयोग की छवि खराब हुई है..और गंभीर आपत्ति है। आयोग ने कहा कि उच्च न्यायालय के आदेश पर  इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में संवैधानिक संस्था को हत्यारा करार दिए जाने लगा। इसपर घंटों डिबेट शुरू हो गया। इससे चुनाव आयोग को गहरा धक्का लगा है।

जनहित के लिए लेने होते हैं कड़े फैसले : सुप्रीम कोर्ट

चुनाव आयोग की याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जनहित के लिए कभी-कभी कड़े-कदम उठाने पड़ते हैं। मद्रास हाईकोर्ट के आदेशों को उसी संदर्भ में लेने की जरूरत है। शीर्ष कोर्ट ने चुनाव अभियानों के दौरान कोविड प्रोटोकॉल को बनाए रखने में पोल पैनल की विफलताओं की आलोचना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *