स्वास्थ्य

घर में लगाएं ये 5 पौधे, ऑक्सीजन देने के साथ बनाएंगे हवा शुद्ध

डेस्क 

देश में लगातार बढ़ते प्रदूषण के कारण लोग दमा और सांस संबंधी अन्य बीमारियों का शिकार हो रहे हैं. वहीं अब कोरोना महामारी के चलते बहुत सारे लोग ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे हैं. इसके चलते मास्क लगाने की सलाह लगातार दी जा रही है. ऐसे में आप घर में कुछ ऐसे पौधे भी लगा सकते हैं. जो घर में वायु प्रदूषण कम करने में मदद कर सकते हैं. आइए जानें कौन से हैं ये पौधे.

गोल्डेन पोसोथ

ये पौधा एयर प्यूरीफायर करने वाले पौधों की लिस्ट में शामिल है. ये सुंदर दिखने वाला पौधा है. इस पौधे को ज्यादा सूरज की रोशनी की जरूरत नहीं होती है. इसे आपने लिविंग रूम में रख सकते हैं. ये पौधा कार्बन मानोऑक्साइड और कार्बन डाइऑक्साइड जैसी गैस को खत्म करने का काम करता है. इस पौधे को लगाने से घर का वातावरण शुद्ध रहता है.

मनी प्लांट

ये एक ऐसा पौधा है जो अधिकतर घरों में पाया जाता है. इस पौधे की बेल घर की शोभा बढ़ाती है. इस पौधे की खास बात ये है कि इसे ज्यादा रोशनी की जरूरत नहीं होती है. ये हवा में कार्बन डाईऑक्साइड को कम करता है. ये हमारी सांस के लिए शुद्ध ऑक्सीजन देता है. इस वजह से हम स्वस्थ रहते हैं और कम बीमार पड़ते हैं.

एलोवेरा

एलोवेरा का पौधे में औषधीय गुण हैं. ये पौधा हवा को शुद्ध रखता है. इसके अलावा इस पौधे कि खासियत है कि इसे ज्यादा पानी की जरूरत नहीं होती है. ये आसानी से लगाया जा सकता है. एलोवेरा के पत्ते मोटे होते हैं. इसका जेल बेहद लाभकारी होता है. इसका इस्तेमाल खूबसूरत त्वचा और कई बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है.

मदर-इन-लॉ टंग

इस पौधे को स्नेक प्लांट और बेडरूम प्लांट भी कहा जाता है. इस पौधे की खास बात ये कि ये रात में भी कार्बन डाई ऑक्साइड को ऑक्सीजन में बदलता है. ये कई अन्य तरह की हानिकारिक गैसों को भी रोकता है. इसे ज्यादा पानी की जरूरत नहीं होती है. इस पौधे को हल्की रोशनी में रखें.

एरिका पाम

ये पौधा हवा से फार्मेल्डीहाइड, कार्बन डाईऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड जैसी जहरीली गैसों को ऑक्सीजन में बदलता है. ये हवा को शुद्ध करता है. ये कई बीमारियों से बचाने में मदद करता है. ये कार्बन मोनोऑक्साइड जैसी जहरीली गैसों को रोकता है. इससे हवा में नमी बनी रहती है. इस पौधे को आप बेडरूम या लिविंग रूम में लगा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *