प्रादेशिक

ग्वालियर : 6 घंटे लावारिस हालत में पड़ा रहा शव, अस्पताल में कार्यरत महिला कर्मचारी के इलाज के लिए भी डाक्टरों ने भर्ती करने से किया इंकार

ग्वालियर : मध्यप्रदेश के ग्वालियर जिले में एक महिला स्वास्थ्य कर्मचारी का शव 6 घंटे तक लावारिसों की तरह स्ट्रेचर पर पड़ा रहा. ग्वालियर जिले के मुरार जिला हॉस्पिटल में स्वास्थ्य विभाग की कर्मचारी मंगला दो दिन पहले कोरोना संक्रमित हुई थी और रविवार को उनकी मौत हो गई. इसके बावजूद 6 घंटे तक शव लावारिसों की तरह पड़ा रहा.

चौंकाने वाली बात ये है कि महिला इसी अस्पताल में कर्मचारी थी और काम के दौरान ही कोरोना संक्रमित हो गयी थी. महिला के शव को सहकर्मियों ने भी हाथ लगाने से इनकार कर दिया और लाश स्ट्रेचर पर ही पड़ी रही. ये महिला मुरार जिला हॉस्पिटल (Murar District Hospital) में चतुर्थ वर्गीय कर्मचारी थी.

स्थानीय लोगों के कहने पर मृतक मंगला के शव को मोर्चरी में रखवा दिया गया. मृतक महिला के परिवार वाले इंदौर में रहते है. जानकारी के मुताबिक फिलहाल उसका बेटा भी इंदौर में कोरोना वायरस के संक्रमित होने के कारण हॉस्पिटल में भर्ती है.

बता दें कि आदर्श नगर के रहने वाली मंगला मुरार स्वास्थ्य विभाग में चतुर्थ श्रेणी की कर्मचारी थीं. उनकी पोस्टिंग मुरार प्रसूति गृह के मुरार जिला हॉस्पिटल है. नौकरी के चलते ग्वालियर में रह रही थीं. 2 दिन पहले रात को जब मंगला बीमार हुई, तो स्थानीय लोगों ने घर का दरवाजा तोड़कर उन्हें बाहर निकाला और जिला हॉस्पिटल लेकर पहुंचे.

हॉस्पिटल में भर्ती करने से भी किया इंकार

आदर्श नगर के रहने वाले स्थानीय निवासी बबलू ने बताया है कि पड़ोसी ही उन्हें लेकर जिला अस्पताल मुरार पहुंचे थे. स्टाफ की सदस्य होने के बाद भी अस्पताल के डॉक्टर उन्हें भर्ती करने के लिए तैयार नहीं थे. इस दौरान जिलाधिकारी समेत सीनियर अधिकारी जब हॉस्पिटल आए, तब कहीं जाकर महिला को भर्ती किया जा सका था. वहीं अगले दिन महिला की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई थी. जिसक चलते रविवार सुबह मंगला की मौत हो गई. इसके बाद कर्मचारी ने शव को स्ट्रेचर पर रखा और जिला हॉस्पिटल की गैलरी में छोड़कर चले गए.

लगातार बढ़ रहे मामले

राज्य में स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ो के मुताबिक पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमित के 13,601 नए मामले सामने आए है. जबकि इस दौरान कोरना संक्रमण के चलते 92 मरीजों की मौतें हुई है. पिछले एक हफ्तें के आंकड़े देखें तो हर दिन औसत 12,000 कोरोना संक्रमित मिले हैं. सरकार के लिए भले ही यह राहत भरी खबर है, लेकिन मौतों का दिन-प्रतिदन आंकड़ा बढ़ता जा रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *