अर्थ

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने बैंकों को दी नसीहत, ‘लोन’ के जरिए मार्केट में बढ़ाए ‘लिक्विडिटी’

डेस्क : भारतीय अर्थव्यवस्था में आ रहे सुधार को कोरोना की दूसरी लहर से खतरा हो सकता है. ऐसे में इकनॉमिकल रिवाइल को जारी रखने के मकसद से भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) ने बैंकों को बदलती परिस्थितियों पर नजर रखने की सलाह दी है. साथ ही लोन के जरिए लिक्विडिटी बढ़ाने को कहा है. ये बात उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई वरिष्ठ अधिकारियों के साथ हुई बैठक में कही.

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि मौजूदा इकनॉमिक रिवाइवल जो अभी शुरुआती चरण में है, उसे कायम रखने के लिए ऋण प्रवाह यानी क्रेडिट फ्लो बेहद जरूरी है. कारोबार की निरंतरता बनाए रखने और इसे ज्यादा तेज करने के लिए ठोस रणनीति बनाई जानी चाहिए. इसके लिए आगे बढ़कर कदम उठाना चाहिए. साथ ही पर्याप्त पूंजी जुटाने पर भी ध्यान देना चाहिए.

इस दौरान उन्होंने केंद्रीय बैंक द्वारा वित्तीय स्थिरता को कायम रखते हुए मौजूदा सुधार की गति को जारी रखने के लिए उठाए गए कदम का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि इस परिस्थिति से निपटने के लिए भी कुछ इसी तरह की पहल की जरूर होगी. गवर्नर ने बैंकों की भुगतान और आईटी प्रणाली पर खास फोकस रखने पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि प्रणाली की दक्षता और क्षमता को बढ़ाया जाना चाहिए जिससे ग्राहकों को बिना किसी रुकावट के सेवाओं का लाभ मिल सके.

बैठक में आरबीआई गवर्नर ने कोविड समाधान के लिए तय की गई रणनीति के क्रियान्वयन और उसमें हुई प्रगति, दबाव वाली संपत्तियों के परिदृश्य और पूंजी के विस्तार जैसे मुद्दों पर भी चर्चा की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *