अजब-गजब प्रादेशिक रोजगार सोशल मीडिया

बिहार : एसटीईटी के पुनर्परीक्षा के विरोध में सिर मुंडवा कर सड़कों पर उतरे युवा शिक्षक

मुजफ्फरपुर : जिले के हजारों छात्र सिर मुंडन करवा कर एसटीइटी की दोबारा परीक्षा का करेंगे बहिष्कार

ज्ञात हो सरकार ने न्यायपालिका को दरकिनार करते हुए एसटीईटी की पुनर्परीक्षा की घोषणा कर दी है, जबकि माननीय उच्च न्यायालय में केस विचाराधीन है एवं उत्तर पुस्तिका को सुरक्षित रखने का आदेश 3 महीने के लिए जारी किया गया है। ऐसे में पुनर्परीक्षा आयोजित करना सही नहीं होगा यह बेरोजगार छात्रों के साथ अन्याय होगा। बोर्ड के तानाशाही रवैये से सभी छात्र परेशान हैं जैसा कि परीक्षा को आउट ऑफ सिलेबस बताकर रद्द कर दिया था तो फिर पुनः पिछले ही नोटिफिकेशन को जारी क्यों किया इससे साफ प्रतीत होती है कि शिक्षा माफियाओं की दाल परीक्षा में नहीं गली थी इसलिए जानबूझकर षड्यंत्र के द्वारा एसटीइटी की परीक्षा रद्द कर दी गई है। एसटीइटीअभ्यर्थी संघ संघर्ष समिति के अध्यक्ष अजय कुमार ने कहा कि बोर्ड एवं सरकार खुद अपने बुने हुए जाल में फंस चुकी है क्योंकि जिस पिछले नोटिफिकेशन के अनुसार परीक्षा आयोजित हुई थी पुनः उसी नोटिफिकेशन को जारी करना बोर्ड के दोहरे चरित्र रबैये को दर्शाता है, इससे साफ जाहिर होती है कि बिहार सरकार बहाली नहीं करना चाहती है, सचिव अजीत कुमार ने कहा कि सरकार अगर परीक्षा को धांधली मानकर रद्द की है तो अब तक एक भी अधिकारी को सस्पेंड क्यों नहीं किया गया जब तक सभी जिला अधिकारी को सस्पेंड नहीं किया जाएगा तब तक हम लोग परीक्षा का बहिष्कार करेंगे। प्रवक्ता बच्चन पटेल ने कहा कि सरकार को हर हाल में रिजल्ट जारी करना होगा अन्यथा हम लोग जेल भरो आंदोलन की तैयारी कर चुके हैं।कोषाध्यक्ष विकास पटेल ने कहा कि परीक्षा को बिना ठोस कारण के रद्द करना एवं मनमाने तरीके से पुनर्परीक्षा की तिथि घोषित कर देना सरकार की कथनी और करनी में अंतर दिखाई पड़ता है।संयोजक धनु वर्मा ने कहा कि सरकार अविलंब एस टी ई टी का रिजल्ट जारी करें अन्यथा बहुत बड़े छात्र आंदोलन की तैयारी हो चुकी है। इस मौके पर सैकड़ों छात्र सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मीटिंग में मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *