अजब- गजब प्रादेशिक बिहार

कर्ज में डूबा ‘द माउंटेन मैन’ दशरथ मांझी का परिवार, बच्ची के इलाज तक के लिए नहीं है पैसे

गया. ‘द माउंटेन मैन’ (The Mountain Man) के नाम से विख्यात दशरथ मांझी (Dashrath Manjhi) जिन्होंने प्यार की खातिर पहाड़ को काट रास्ता बना डाला था, जिनके नाम पर कई फिल्में भी बनीं, अस्पताल, सड़क आदि बनाया गया उनका परिवार फिलहाल कर्ज (Financial Crisis) में डूबा हुआ है. हालात ऐसे हैं कि मांझी के परिवार को मदद के लिए दूसरों के आगे हाथ फैलाना पड़ रहा है. दशरथ मांझी के नाती मद्रास में काम करते थे और देश में लॉकडाउन (Lockdown) लगने के बाद वो अपने घर चले आये. लॉकडाउन की वजह से वो घर में ही है और कोई काम भी नहीं मिल रहा था.ऐसे में 10 दिन पूर्व  दशरथ मांझी की दो वर्षीय नतिनी पिंकी कुमारी का एक्सीडेंट में एक हाथ और पैर टूट गया है जिसके इलाज में 45 हजार खर्च जो गए.

सरकार से लगा रहे हैं मदद की गुहार

इलाज के लिए सभी परिवारवालों ने गांव वालों से कर्ज लेकर इलाज कराया है वहीं अभी भी नातिन पिंकी कुमारी के इलाज के लिए रूपये नहीं है और परिवार के लोग पैसे-पैसे के मोहताज हो गए हैं. ऐसे में परिवार के लोग सरकार से बच्ची के इलाज के लिए गुहार लगा रहे है. परिवार के लोगों बताया की आज तक न इंदिरा आवास का लाभ नहीं मिला है. माउंटेन मैन के बेटे भगीरथ मांझी को वृद्धा पेंशन और बेटी को विधवा पेंशन का लाभ मिलता था जो वह भी बंद कर दिया गया है.

नहीं मिली फिल्मों की रॉयल्टी

बॉलीवुड फिल्म निर्देशकों के बारे में मांझी के परिवार के लोगों ने कहा कि फ़िल्म शूट करते समय कई वादे किए गए थे कि फ़िल्म की रॉयल्टी मिलेगी मगर अभी तक कुछ भी नहीं मिला है. माउंटेन मैन के परिजन आज पहले की तरह फुस के बने घरों में रहने को मजबूर हैं. मांझी के बेटे ने बताया कि हमलोग बहुत गरीब हैं. बच्ची का इलाज कर्ज लेकर कराये है मगर कितना कर्ज लेकर इलाज करायें. घर से बाहर रह कर काम करता था मगर लॉकडाउन की वजह से घर आ गया और नौकरी छूट गई.

पप्पू यादव करते थे मदद

मांझी के बेटे ने कहा कि मेरे पिताजी के नाम से जो लोग फिल्म बनाने आये थे फिल्म बना कर चले गए. वो लोग बोले थे की फिल्म का दो प्रतिशत देंगे मगर नहीं दिया. हमलोग अनपढ़ हैं उनलोगो को खोजने के लिए मुंबई कहां जायेंगे. हमलोगों को एक रुपया नहीं दिया गया है हमको भी जो वृद्धा पेंशन मिलता था वह भी बंद हो गया है. बच्ची के इलाज के लिए हमलोगों के पास अब रुपया नहीं है. जन अधिकार पार्टी के संरक्षक पप्पू यादव भी यह हर महीने 10 हजार रुपये भेजते थे वो भी नहीं मिल रहा है.

खबर मिलते ही पप्पू यादव ने दिया 25 हजार रुपया

मीडिया में खबर आने के बाद जाप के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह पूर्व सांसद पप्पू यादव ने अपने पार्टी के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष उमेर खान से बात की और उनके परिवार से मिलकर आर्थिक मदद करने का निर्देश दिया. प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष उमेर खान ने ‘माउंटेन मैन’ के बेटा भागीरथ मांझी के घर पहुंचकर 25 हजार रुपये देकर आर्थिक मदद की है. प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष उमेर खान ने फोन पर राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव से ‘माउंटेन मैन’ के बेटे भगीरथ मांझी को बातचीत करवाया और कठिनाइयों के बारे में पप्पू यादव ने जानकारी ली.

इलाज का खर्च उठाने की दरकार

राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव उनके बातों को बारीकी से सुना और जितने भी इलाज में खर्च हो रहे हैं वह उठाने का वादा किया. पप्पू यादव ने आश्वासन दिया है कि अभी हम बाढ़ के प्रकोप में फंसे लोगों को राहत पहुंचाने का काम कर रहे हैं इधर से छुटकारा मिलते ही हम सीधे आपसे मिलने आएंगे और जो भी दिक्कतें हो रही है उसका हम समाधान करेंगे. पप्पू यादव की पार्टी से जुड़े लोगों ने कहा कि भागीरथ मांगी के खाते में हर महीने पप्पू यादव 10 हजार खाता में भेजवाते थे लेकिन कुछ महीने से बंद है इसकी जानकारी पप्पू यादव को दी गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *