साहित्य

हास्य-व्यंग्य : चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से (नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान)

चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे से

नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान

(वरिष्ठ पत्रकार-साहित्यकार, यूपी)

ज जब मैं प्रपंच चबूतरे पर पहुंचा, तब चतुरी चाचा अपनी महफ़िल जमा चुके थे। चतुरी चाचा, मुंशीजी, कासिम चचा व बड़के दद्दा मुँह पर मॉस्क लगाए थे। वहीं, ककुवा गमछे से मुंह बांधे हुए थे। सब चबूतरे के चारों तरफ पड़ी कुर्सियों पर विराजमान थे। सब लोग कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या पर चिंतन कर रहे थे। तभी मेरी भी इंट्री हो गई। चतुरी चाचा बोले- रिपोर्टर, तुम सबसे पहले कोरोना के आंकड़े बताओ। मुझे तो अब बड़ी चिंता सताने लगी है। कहीं अपना उप्र पर भी महाराष्ट्र और दिल्ली की राह पर न चल पड़े।

हमने कहा- चाचा आपकी चिंता जायज है। कोरोना का संक्रमण बहुत तेजी से बढ़ रहा है। जनता की लापरवाही और मनमानी के चलते स्थिति भयावह होती जा रही है। अब तो देश में करीब साढ़े 11 लाख कोरोना मरीज हो गए हैं। एक दिन में तकरीबन 35 हजार नए मरीज सामने आ रहे हैं। रोज करीब 700 कोरोना मरीज मौत के मुंह में समा रहे हैं। उत्तर प्रदेश में भी कोरोना से अबतक 11 सौ से ज्यादा लोग काल कलवित हो चुके हैं। करीब 46 हजार लोग कोरोना से पीड़ित हैं। राजधानी लखनऊ में बुरी स्थिति है। तीन सौ से ज्यादा नए मरीज एक दिन में निकल रहे हैं। अब योगी सरकार ने शनिवार और रविवार को सम्पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया है। इससे कुछ सुधार होने की उम्मीद है।
इसी बीच चंदू बिटिया नींबू का गुनगुना पानी, तुलसी-अदरक का काढ़ा और साथ में पालक की पकौड़ी लेकर आ गई। सबने गर्मागर्म पकौड़ी खाकर पानी पीया। फिर काढ़े के साथ बतकही आगे बढ़ी। बड़के दद्दा बोले- केंद्र सरकार और राज्य सरकार ने बहुत कुछ किया है। सरकार को दोष नहीं दिया जा सकता है। सरकार की योजनाओं और नियम-कानून को वास्तविक जमीन पर उतारने में जिम्मेदार अफसर जरूर उदासीनता बरत रहे हैं। सबसे ज्यादा गलती जनता कर रही है। लोग कोरोना को बहुत हल्के में ले रहे हैं। कुछ जागरूक लोगों की बात छोड़ दी जाए तो सब लोग घोर लापरवाही बरत रहे हैं।
मुंशीजी ने बताया कि मैंने कल बाजार में देखा कि न कोई मॉस्क लगाए था। एक दूसरे से कोई दूरी नहीं रख रहा था। दुकानों पर भारी भीड़ जमा थी। लोग जगह-जगह मुँह में मुँह जोड़कर बातें कर रहे थे। हाइवे के किनारे पुलिस भी तमाशबीन बनी बैठी थी। लोग बिना मॉस्क धड़ल्ले से आवागमन कर रहे थे। यह सब बहुत गलत है। इसी से कोरोना संक्रमण बढ़ता जा रहा है। मॉस्क और दो गज की दूरी का कहीं पालन नहीं कराया जा रहा है।

कासिम चचा ने विषय बदलते हुए कहा- इस समय तो राजस्थान में राजनैतिक नौटंकी चल रही है। एक जमाने में केंद्र में सत्तारूढ़ कांग्रेस राज्यों में जो तोड़फोड़, दलबदल करवाती थी। आज वही सब भाजपा भी कर रही है। भाजपा कई राज्यों में कांग्रेस-नीति अपनाकर सत्ता हासिल कर चुकी है। भाजपा ने मध्य प्रदेश के बाद वही चाल राजस्थान में चली है। ज्योतिरादित्य सिंधिया की तर्ज पर सचिन पायलट को मोहरा बनाया है। लेकिन, राजस्थान में मुख्यमंत्री गहलौत भी मंझे खिलाड़ी हैं। बसपा के सभी विधायक पहले ही कांग्रेस में शामिल करवा लिये थे। सचिन गुट के 19 विधायकों को छोड़कर सभी कांग्रेसी विधायक गहलौत की मुट्ठी में बन्द हैं। विधायकों की खरीद-फरोख्त से लोकतंत्र का गला घोंटा जाता है।

काफी देर से चुप्पी साधे ककुवा बोले- हम तौ ई बखत टीवी मा चीन अउ पाकिस्तान केरी हरकतन का देखित हय। भारत केरी बढ़त देखि कय जू जुड़ाय जात हय। शुक का रक्षामंत्री राजनाथव लद्दाख गए रहयं। मोदी जी की तिना राजनाथव खूब गरजे। शनिश्चर का राजनाथ कश्मीर गए रहयं। हुवाँ बाबा अमरनाथ केर दर्शन किहिन। सीमा पर प्रधानमंत्री अउ रक्षामंत्री केरे जाय ते सेना केर मनोबल खूब बढ़ि गवा। वइसन तौ हमरे भारत केरी तिनिव सेना बड़ी दमदार हयँ। तबहिन चीन गलवान घाटी मा पाछे हटि गवा। पाकिस्तान मा समहे से लड़य केरी हिम्मत नाहीं हय। ऊह बसि आतंकवादिन का भ्याजत हय। हमार फौजी आतंकवादिन का हूरन केरे पास भेजि रहे हयँ। अब होय सकत हय कि नेपालव का सद्बुद्धि आय जाय।
इसी के साथ आज का प्रपंच समाप्त हो गया। मैं हमेशा की तरह अगले रविवार को फिर चतुरी चाचा के प्रपंच चबूतरे पर होने वाली बतकही को लेकर हाजिर रहूँगा। तब तक के लिए पँचव राम-राम!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *