कुम्भ
Uncategorized साहित्य

श्रद्धालु कुम्भ मेले में उठा रहे है सांस्कृतिक कार्यक्रमों का लुत्फ़

प्रयागराज- श्रद्धालु कुम्भ मेले के साथ साथ सांस्कृतिक कार्यक्रमो में भी शामिल हो रहे है.

सांस्कृतिक मेला उत्तर प्रदेश सांस्कृतिक विभाग की तरफ से कुम्भ में आकर्षण का बना हुआ है जिसके चलते ,बने हुए पांच कला मंचो पे हर दिन कई तरह के सांस्कृतिक करिकक्रम आयोजित ही रहें है।

कुम्भ
कुम्भ

सेक्टर 4 में अक्षयवट मंच पर दिल्ली की कलाकार सुनंदा शर्मा ने उपशास्त्रीय गायन प्रस्तुत किया। दिल्ली के श्री राम भारतीय कला केंद्र ने रामलीला का मंचन कर मौहोल में अत्याधमिक रंग घोल दिया।

वहीं  प्रयाराज की कलाकार बीना सिंह ने सेक्टर 6 में बने भरतद्वाज मंच पे डीडीया लोकनृत्य प्रस्तुत किया। दर्शको ने नोएडा के कलाकार ब्रह्मपाल नागर के रागनी गान को सुना।

नवाबो के शेहेर लखनऊ से आय विक्रम भिष्ट ने उत्तरांचल के लोक नृत्य की प्रस्तुति दिखाई एव सब से एहम कार्यक्रम थाईलैंड के कलाकारों द्वारा रामलीला को प्रस्तुत किया जो थाईलैंड सरकार द्वारा  के सौजन्य से था।

वहीं दूसरी ओर यमुना मंच पे उर्वशी साहू ,छत्तीसगढ़ ने करमा, राउतनाचा अथवा सुगा लोकनृत्य प्रस्तुत किया। मुम्बई से आय कलाकार जे एस आर मधुकर के सूफ़ी गायन ने लोगों को मुग्ध कर दिया।

कुम्भ
कुम्भ

अंकिया नाट की प्रस्तुति हेमचंद्र गोस्वामी ने दी। विषेष प्रस्तुति रासलीला के रूप में थी जिसे कमलाबाड़ी संत शंकरदेव कृषि सन्ध द्वारा किया गया।

कुम्भ
कुम्भ

अगर कुम्भ मेले में मज़ेदार खाने का लुत्फ़ लेना हो तो ललित कला के प्रदर्शनी पंडाल में जाइये जहां उत्तर एव दक्षिण भारतीय व्यंजनों के साथ साथ बिहारी,गुजराती, राजस्थानी समेत कई प्रदेशों के पकवान है।

यहां शाम होते ही भीड़ उमड़ पड़ती है और लोगों के ज़ुबान के साथ साथ पकवान की तारीफ़भी खूब सुन ने को मिल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *